ये है मेरा वसीयतनामा

(गझल)

घनश्याम ठक्कर