वैष्नवजन तो उसको कहें {भावानुवाद + वाद्य संगीत MP3} 

घनश्याम ठक्कर

गांधीजी का सबसे प्रिय, नरसिंह महेता रचित,
गुजराती भजन का छंदोबद्ध भावानुवाद

Gandhiji & Narsinh Mehta

Gandhiji & Narsinh Mehta

Advertisements